तस्य का अर्थ Tasya ka Arth meaning in Hindi Best 2+ Definition

Tasya ka Arth meaning in Hindi

नमस्कार दोस्तों, आज इस पोस्ट में हम संस्कृत तस्य का अर्थ (Tasya ka Arth) बताएंगे। संस्कृत भाषा में दो प्रकार के तस्य शब्द हैं।

एक है तस्य, जिसके पीछे कोई बिंदु नहीं हैं। और एक है तस्य:, जिसके बाद दो बिंदु हैं। लेकिन जब हम तस्य शब्द के पीछे दो बिंदु लगाते हैं। उस शब्द का एक और अर्थ है।

इस ब्लॉग में हम आपको पूर्ण रूप से संस्कृत में इन दो शब्दों तस्य का अर्थ बताएंगे कि आपको कैसे शब्द का प्रयोग करना है। तस्य का अर्थ जानने के लिए इस ब्लॉग को अंतिम तक पढ़ें। आएँ शुरू करें |

तस्य का अर्थ
तस्य: का अर्थ
 Tasya ka Arth meaning in Hindi

तस्य का अर्थ हिंदी में

सबसे पहले हम आपको तस्य का अर्थ (Tasya ka Arth) बताएंगे। इस के पीछे दो बिंदु नहीं लगे है। इस बात को आप ने अपने दिमाग में रखना है।

तस्य शब्द का हिंदी में अर्थ होता है उसका। इस का इस्माल अपने पुलिंग के लिये करना है। इस शब्द डा इस्तमाल दूर के आदमी के लिये करना है। जैसे के कोई एक आदमी आपके पास खड़ा है। और एक और आदमी है जो आपसे थोड़ी दुरी पर खड़ा है। तो आप तस्य शब्द का इस्तामल पास खड़े आदमी कहेंगे। जैसे –

  • तस्य नाम किम?
  • उसका नाम किया है?

तस्य: का अर्थ हिंदी में

अब बात करते है संस्कृत के दूसरे शब्द की। जिसके पिछले पासे दो बिंदु लगे होते है।

हिंदी में तस्य: का अर्थ होता है उसका। लेकिन आप इस दो बिंदुआ वाले तस्य: शब्द का इस्तमाल इस्त्री के लिये करोगे। जैसे –

  • तस्य: नाम किम?
  • उसका नाम किया है?

Tasya ka Arth Meaning in english

Tasya means in English, His.

  • तस्य: नाम किम?
  • What’s his name?

मुझे पूरी उम्मीद है। इस पूरे ब्लॉग को पढ़कर पता चल गया होगा। तस्य: और तस्य (Tasya ka Arth) का हिंदी में किया अर्थ होता है। इस आप (Kasya Ka Arth)कस्याः का अर्थ हिंदी में जान सकते हो। Kasya Ka Arth

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here